BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

MCF मेयर/पार्षदों का कार्यकाल हुआ पूरा, अगले चुनाव होने तक निगमायुक्त/प्रशासक के हाथों में होगी MCF की बागडोर!

नए नोटिफिकेशन के अनुसार नगर निगम फ़रीदाबाद की जनसँख्या 15.56 लाख, 45 वार्ड निर्धारित  
जुलाई, 2015 में आबादी थी 14.14 लाख, 40 वार्ड तय कर जनवरी, 2017 में हुआ था चुनाव 
मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की खास रिपोर्ट।
चंडीगढ़/फ़रीदाबाद
: आज शनिवार, 12 फरवरी को  जनवरी, 2017 में निर्वाचित फरीदाबाद नगर निगम का पांच वर्ष का कार्यकाल पूर्ण हो गया है। चूँकि इस  नगर निगम की पहली बैठक 13 फरवरी, 2017 को बुलाई गई थी जिसमें सुमन बाला नगर निगम की मेयर निर्वाचित हुई थी।
बता दें कि हरियाणा नगर निगम कानून, 1994 की धारा-5 के अनुसार नगर निगम का कार्यकाल पहली आयोजित बैठक से 5 वर्षो तक ही होता है, इसलिए इस 12 फरवरी को यह कार्यकाल पूरा हो गया है।
बहरहाल, इसी बीच पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार ने बताया कि अगर किसी नगर निगम के पांच वर्ष कार्यकाल के समाप्त होने से पहले वहाँ बेशक किसी भी वजह से ताज़ा आम चुनाव सम्पन्न नहीं हो सके तो ऐसी  परिस्थिति में उक्त 1994 कानून की  धारा 5 (4) अनुसार पुरानी नगर निगम का पांच वर्ष की समय अवधि पूरी होते ही उसे स्वत: भंग माना जाता है तथा उस पर उक्त कानून की धारा 400 (2) लागू होती है जिसके अंतर्गत निगम की सारी शक्तियां राज्य सरकार में निहित हो जाती है। दूसरे शब्दों में राज्य सरकार द्वारा विशेष रूप से नियुक्त अधिकारी या प्राधिकारी ही नगर  निगम चलायेगा। चूँकि भंग की गयी किसी नगर निगम के चुनाव 6 महीनों में करवाना वैधानिक/कानूनी रूप से अनिवार्य है, उसी प्रकार कानूनन अगर किसी नगर निगम को भंग होने के समान माना जाता है तो उस पर भी यह 6 माह की सीमा कानूनी रूप से लागू होती है।
बहरहाल, हरियाणा सरकार के शहरी स्थानीय निकाय  विभाग द्वारा 9 फरवरी, 2022 को जारी एक नोटिफिकेशन में फरीदाबाद  नगर निगम के लिए कुल वार्डो की संख्या 45 निर्धारित की गयी है। उक्त नोटिफिकेशन हरियाणा नगर निगम कानून, 1994  की धारा 11 के सम्बंधित उप-धाराओं और हरियाणा नगर निगम वार्ड परिसीमन नियमावली, 1994 के नियम 3 के तहत जारी की गयी है।
नई परिसीमन नियमावली के तहत नगर निगम में कुल 45 वार्डो में से 15 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे जिनमें से 2 दो वार्ड अनुसूचित जाति (एससी)  की महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे, इसके अलावा 5 वार्ड अनुसूचित जाति के एवं 2 वार्ड पिछड़े  वर्ग (बीसी) के  लिए आरक्षित होंगे। इस प्रकार कुल 23 वार्ड ही ओपन अर्थात अनारक्षित होंगे अर्थात जिनमें सामान्य वर्ग के पुरुष   चुनाव लड़ सकते हैं। हालांकि इनमें भी सामान्य वर्ग की महिलाएं और साथ-साथ आरक्षित जाति/वर्ग  के पुरुष/महिलाएं अगर चाहे तो सामान्य उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ सकते हैं।
उक्त नोटिफिकेशन में फरीदाबाद नगर निगम की जनसँख्या को 15 लाख, 56 हज़ार, 762 नोटिफाई किया गया है जिसमें से अनुसूचित जाति की आबादी को 1 लाख, 73 हज़ार, 97 दर्शाया गया है।
इससे पूर्व जुलाई, 2015 में जब फरीदाबाद नगर निगम के वार्डो का पिछली बार निर्धारण किया गया था तो उस समय 2011 जनगणना के आंकड़ों के आधार पर फरीदाबाद नगर निगम की आबादी 14 लाख, 14 हज़ार, 50 नोटिफाई की गयी थी। जिसमें से 1 लाख, 49  हज़ार, 475 अनुसूचित जाति की जनसँख्या दर्शायी गयी थी। उस समय नगर निगम के 40 वार्ड तय किये गए थे एवं जनवरी, 2017 में आम चुनाव करवाए गए थे।
हालांकि गत दो वर्षो से कोरोना वायरस संक्रमण के फलस्वरूप उत्पन्न परिस्थितयों के कारण जनगणना-2021 की प्रक्रिया प्रारम्भ नहीं हो सकी है।
इस विषय पर एडवोकेट हेमंत कुमार ने बताया कि चूँकि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 243 पी (जी ) में जनसँख्या का अर्थ देश में की गयी पिछली जनगणना के प्रकाशित आंकड़ों को ही माना गया है। अत: हरियाणा सरकार द्वारा मौजूदा जनसँख्या की गणना करने सम्बन्धी सुझाये गए फॉर्मूले, जिसे हरियाणा नगर निगम कानून, 1994 की धारा 3 में संशोधन कर वर्ष 2019 से लागू किया गया था, उस पर  कानूनी संशय है। वैसे भी वर्ष 2011 की जनगणना की वार्षिक वृद्धि दर 2001-11 के दशक की थी एवं उसी वृद्धि दर को 2011 से 2021  तक की कैसे माना जा सकता है? वर्ष 2021 में की जाने वाली अगली जनगणना द्वारा ही 2011-2021 में हुई वृद्धि दर का सही अनुमान लगाया जा सकता है ? 
इस वर्ष 1 जनवरी, 2022 की योग्यता तिथि के आधार पर फरीदाबाद ज़िले में कुल मतदाताओं की संख्या को अपडेट किया गया है जिसे   5 जनवरी, 2022  को प्रकाशित कर सार्वजनिक किया गया। फाइनल आंकड़ों के अनुसार फरीदाबाद ज़िले में पड़ने वाले सभी 6 विधानसभा हलकों में प्रदेश में सबसे अधिक 16 लाख, 12 हज़ार, 916 मतदाता हैं एवं यहाँ बीते एक वर्ष में 45 हज़ार, 445 मतदाता बढ़ गए हैं।
ताज़ा आंकड़ों के अनुसार ज़िले के पृथला हलके में 2 लाख, 12 हज़ार, 404 हज़ार, फरीदाबाद एनआईटी में 2 लाख, 81 हज़ार, 33, बड़खल में 2 लाख, 93 हज़ार, 431, बल्लभगढ़ में 2 लाख, 48 हज़ार, 124, फरीदाबाद शहर में 2 लाख, 48 हज़ार, 165 जबकि तिगांव में 3 लाख, 27 हज़ार, 849 मतदाता है। ज़िले में 8 लाख, 84 हज़ार, 839 पुरुष मतदाता हैं जबकि 7 लाख, 26 हज़ार, 167 महिला मतदाता है। ज़िले में बड़खल, बल्लभगढ़ और फरीदाबाद शहर पूर्णतया शहरी हलके हैं अर्थात इनमें कोई ग्रामीण पोलिंग स्टेशन नहीं है जबकि पृथला पूर्णतया ग्रामीण हलका हैं अर्थात इसमें कोई शहरी पोलिंग स्टेशन नहीं है। फरीदाबाद ज़िले का पूरा शहरी क्षेत्र नगर निगम के दायरे में ही आता है एवं इस ज़िले में कोई भी नगर परिषद या नगर पालिका नहीं है।




Leave a Reply

Your email address will not be published.