BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

आईएमए का राष्ट्रीय सत्याग्रह स्थगित

सोनिया शर्मा
फरीदाबाद, 16 नवम्बर:
इंडियन मेडिकल एसोएिशन से जुड़े देशभर के लगभग, ढाई लाख चिकित्सकों का कल 16 नवंबर सोमवार को किया जाने वाला आईएमए राष्ट्रीय सत्याग्रह फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। आईएमए हरियाणा के अध्यक्ष डा० अनिल गोयल ने बताया कि केन्द्रीय स्वास्थय मंत्री जेपी नडड द्वारा चिकित्सकों की मागों पर गंभीरता से विचार करने एवं इसके लिए अंतर विभागीय समिति का गठन कर दिए जाने के बाद आईएमए ने फिलहाल राष्ट्रीय सत्याग्रह स्थगित करने का फैसला लिया है। डा० अनिल गोयल ने बताया कि आईएमए पिछले तकरीबन एक साल से डाक्टरों की समस्याओं को लेकर लगातार सरकार को ज्ञापन दे रही थी। उन्होंने बताया कि आईएमए की मुख्य मागों में
1. डाक्टरों की सुरक्षा हेतू कड़े केन्द्रीय देशव्यापी कानून का गठन हो।
2. क्लीनिकल एक्ट से एकल क्लीनिक एवं छोटे व मध्यम नर्सिग होम को बाहर रखा जाए।
3. पीसीपीएनडीटी एक्ट में जरूरी बदलाव हो ताकि निर्दोष अल्टासाऊंड डाक्टरों का शोषण ना हो।
4. आयुष चिकित्सकों द्वारा प्रिसक्रीप्शन एलोपैथिक दवाईयां लिखने की मनाही हो।
5. उपभोक्ता मामलों में मुआवजे की राशि की सीमा तय हो।
डा० गोयल ने बताया कि सरकार द्वारा इन मागों को नजरअंदाज करने के चलते हाल ही में त्रिवेद्रम में आयोजित आईएमए की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में एकमत से यह फैसला लिया गया कि आईएमए की 30 प्रदेश ईकाईयां,1700 स्थानीय ईकाईयां एवं ढाई लाख आईएमए सदस्य 16 नवंबर को राष्ट्रीय आईएमए सत्याग्रह दिवस के रूप में मनाएगें।
आईएमए ने अपने इस प्रस्तावित राष्ट्रीय सत्याग्रह के बारे में प्रधानमंत्री,केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री,ग्रहमंत्री,कानून मंत्री एवं सभी सांसदों को ज्ञापन देकर अवगत कराया। उन्होंने बताया आईएमए की ऑनलाईन मुहिम के तहत 50 हजार से अधिक चिकित्सकों ने हस्ताक्षर किए है। प्रदेशध्यक्ष के अनुसार केन्द्रीय स्वास्थय मंत्री ने 10 नवंबर को आईएमए के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा० मार्तंडें पिल्लई, राष्टीय महासचिव डा० केके अग्रवाल व अन्य आईएमए पदाधिकारियों को बातचीत के लिए बुलाया था जिसके बाद उन्होंने अतिरिक्त सचिव स्वास्थय विभाग, संयुक्त सचिव कानून,संयुक्त सचिव ग्रह और संयुक्त सचिव उपभोक्ता मामले की अंतर विभागीय समिति बनाई। इस कमेटी में 3 आईएमए के पदाधिकारी और एक एमसीआई का प्रतिनिधि भीं शामिल होगें। यह कमेटी डाक्टर्स की समस्याओं का अवलोकन करके 6 सप्ताह में अपनी रिपोर्ट केन्द्रीय स्वास्थय मंत्री जेपी नडड को प्रस्तुत करेगी।
डा०अनिल गोयल के अनुसार आईएमए की राष्टीय कार्यकारिणी की बैठक 27 व 28 दिसंबर को नई दिल्ली में होगी तब तक अंतर विभागीय कमेटी की रिपोर्ट भी आ जाएगी। उन्होनें बताया कि रिपोर्ट देखने के बाद ही आगे की रणनीति बनाई जाएगी।




Leave a Reply

Your email address will not be published.