BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

बार कोडिंग उद्योगों के लिए आवश्यकता प्रक्रिया बनी: जेपी मल्होत्रा

नवीन गुप्ता
फरीदाबाद, 8 नवंबर:
एमएसएमई मंत्रालय के उपनिदेशक बीएम झा ने उद्योग प्रबंधकों से आह्वान किया है कि वह उद्योगों में लीन मैन्यूफैक्चरिंग, ऊर्जा संरक्षण, बार कोडिंग, आईएसओ सर्टिफिकेशन सहित नेशनल मैन्यूफैक्चरिंग कम्पीटिटीवनैस प्रोग्राम के तहत सरकार द्वारा प्रदान की जा रही योजानाओं का अधिकाधिक लाभ उठाएं।
यहां डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा एमएसएमई डीआई भारत सरकार से सहयोग से आयोजित बार कोडिंग पर विषेश जागरूकता सेमिनार एवं शिविर में अपने विचार व्यक्त करते हुए श्री झा ने कहा कि सरकार द्वारा कई वित्तीय नीतियां तैयार की गई है जिनका लाभ उद्योग प्रबंधकों को उठाना चाहिए। श्री झा ने विश्वास व्यक्त किया कि डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा आयोजित इस जागरूकता सेमिनार के साकारत्मक परिणाम सामने आएंगे।
इससे पूर्व डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रधान जेपी मल्होत्रा ने आगंतुकों व मुख्यातिथि का स्वागत करते कहा कि बार कोडिंग वर्तमान में उद्योगों के लिए एक आवश्यक प्रक्रिया बनी हैं। आपने बताया कि भारत सरकार द्वारा नेशनल मैन्यूफैक्चरिंग कम्पीटिटीवनैस प्रोग्राम के तहत 10 गाईडिंग टूल्स के लिए वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने की योजना तैयार की है जिनमें बार कोड भी एक हैं।
मल्होत्रा ने बताया कि बार कोडिंग के लिए आयोजित इस विषेश जागरूकता सेमिनार का उद्देश्य उद्योगों में बार कोड के प्रति न केवल जागरूकता लाना है बल्कि इसका अधिकाधिक लाभ कैसे उठाया जा सकता है, इसकी जानकारी सेमिनार में प्रदान की गई।
सेमिनार में राजेश मित्तल ने अपनी प्रेजैन्टेशन में बार कोडिंग के उपयोग तथा उसकी उपयोगिता की जानकारी दी। मित्तल ने बताया कि वर्तमान परिवेश में जबकि इंवेन्टरी उद्योगों की प्रक्रिया को बढ़ा रही है, ऐसे में बार कोडिंग उद्योगों के लिए काफी कारगर सिद्ध होता है जिस पर ध्यान दिया जाना चाहिए।
प्रेजैन्टेशन में बार कोडिंग से होने वाले लाभ, इंवेन्टरी कॉस्ट में कटौती, उपलब्ध संबंधी जानकारी में सुधार के संबंध में भी बताया गया। जानकारी दी गई कि बार कोड विश्वस्तर पर उत्पादन की गुणवत्ता पर निर्भर और इसे चेने सिस्टम, एक्सपोर्ट कोड, शिपिंग में भी प्रयोग किया जा सकता हैं।
कार्यक्रम में सहायक निदेशक एम के शर्मा व डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन में महासचिव विजय राघवन ने भी बार कोड की उपयोगिता संबंधी जानकारी दी।
इस अवसर पर सर्वश्री एम पी रूंगटा, एमएल शर्मा, टी सी धवन, विनोद, एसके लूथरा, जोगेश, एससी गुप्ता, गौतम मल्होत्रा, पवन मल्होत्रा, वीआर राघवन, एस के बत्तरा, भूपेंद्र सिंह, कुलदीप सिंह सहित एमएसएमई विभाग से मेहश कुमार शर्मा, राजेश मित्तल सहित डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के सदस्यों की उपस्थिति विषेश रूप से उल्लेखनीय रही।




Leave a Reply

Your email address will not be published.