BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

सांप्रदायिक सौहार्द की पहचान है ऐतिहासिक पंखा मेला: विपुल गोयल

Metro Plus से Naveen Gupta की रिपोर्ट
Faridabad News, 16 अगस्त:
फरीदाबाद की सर्वधर्म समभाव की देशभर में मिसाल दी जाती है और पंखा मेला हिंदू मुस्लिम भाइयों की एकता की सबसे बड़ी पहचान है। यह विचार उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने ओल्ड फरीदाबाद के माता पथवारी मंदिर में पंखा मेला के उद्वघाटन समारोह में व्यक्त किए जहां उन्होंने मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की। विपुल गोयल ने कहा कि जिस प्रेम के साथ मुस्लिम भाई पथवारी मैया का पंखा तैयार करते हैं और मेले में भी पूरे उत्साह के साथ शिरकत करते हैं वह दिखाता है कि बाबा फरीद की नगरी फरीदाबाद में किस तरह का सांप्रदायिक सौहार्द है और इसी सौहार्द के साथ आगे बढ़ते हुए हम सभी मिलकर फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी बनाएंगे। विपुल गोयल ने कहा कि पिछले 5 साल में फरीदाबाद में ऐतिहासिक विकास हुआ है और जो बुनियाद यह बीजेपी सरकार ने रखी है उस पर अब स्मार्ट सिटी की ऐसी इमारत बना ली है जिससे फरीदाबाद फिर से दुनिया में अपना मुकाम हासिल कर सके। इस मौके पर उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने सभी को रक्षाबंधन और स्वतंत्रा दिवस की भी शुभकामनाएं दी और कहा कि इस बार का स्वतंत्रता दिवस पूरे देश के लिए आजादी के बाद सबसे खास है।
इस मौके पर विपुल गोयल ने कहा कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35ं को हटाने का कानून बनाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत माता के मुकुट कश्मीर को नई आजादी दिलाने का काम किया है और अब कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक पूरे देश में एक विधान एक संविधान और एक निशान नजर आता है।
इस मौके पर पंखा मेले आयोजन कमेटी के चेयरमैन पंडित मुकेश शास्त्री ने मेले में सहयोग के लिए उद्योग मंत्री विपुल गोयल का तहे दिल से आभार प्रकट किया और उनका शानदार स्वागत किया पंडित मुकेश शास्त्री ने कहा कि इस बार का मेला अब तक का सबसे भव्य मेला है जिसमें सभी धर्म और सभी वर्ग के लोगों ने सहयोग किया है। उन्होंने कहा कि हर साल रक्षाबंधन के मौके पर इस मेले को आयोजित किया जाता है ताकि फरीदाबाद के लोग पथवारी मैया के आशीर्वाद से बीमारियों से मुक्त रहें और आपसी भाईचारा बना रहे। उन्होंने कहा कि पुराने जमाने से पंखा मेले की परंपरा चली आ रही है और ऐसी मान्यता है कि पथवारी मैया ने फरीदाबाद वासियों को महामारी से बचाया था जब हिंदू और मुसलमान भाइयों ने मिलकर पथवारी मैया की पूजा की थी।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *