BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

एसवीसी को-ऑपरेटिव बैंक ने खोली अपनी 10 नई ब्रांच

नवीन गुप्ता
फरीदाबाद, 01 जनवरी:
एसवीसी को-ऑपरेटिव बैंक द्वारा आज देशभर में अपनी 10 और नई ब्रांच खोली गई हैं। इस उपलक्ष्य में एसवीसी बैंक की नीलम-बाटा रोड़ स्थित ब्रांच द्वारा बैंक परिसर में केक काटकर जश्र मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर रोटरी क्लब ऑफ फरीदाबाद इंडस्ट्रियल टाऊन के कोषाध्यक्ष व पत्रकार नवीन गुप्ता तथा विशेष अतिथि के तौर पर सुभाष तनेजा व मनीष चावला ने शिरकत की तथा बैंक की 10 नई ब्रांच खोले जाने पर केक काटकर बैंक मैनेजमेंट को इसके लिए बधाईं दी। इस अवसर पर बैंक के ब्रांच मैनेजर रवि प्रकाश मित्तल सहित मेघा नागपाल, कृष्ण सैनी, कुमार हर्ष, नवीन उप्पल, अजीश आदि बैंक के सभी अधिकारी व कर्मचारियों सहित दीपक मुखी कथूरिया, योगेश गौतम आदि भी विशेष तौर पर मौजूद थे।
बैंक के ब्रांच मैनेजर रवि प्रकाश मित्तल ने बताया कि इससे पहले बैंक की देशभर में 181 ब्रांच थी जो अब बढ़कर 191 हो गई हैं। इस अवसर पर बैंक के कस्टर्मस/ग्राहकों के लिए कई प्रकार के आकर्षक गिफ्ट तथा स्कीमें भी रखी गई थी। हरियाणा में बैंक की पहली ब्रांच फरीदाबाद में हैं तथा जल्द ही ग्रेटर फरीदाबाद तथा पानीपत में भी दूसरी ब्रांचें खोली जाएंगी। एसवीसी को-ऑपरेटिव बैंक अपने ग्राहकों के सपनों को पूरा करने के लिए 109 से भी अधिक वर्षों से अग्रसर है। एसवीसी को-ऑपरेटिव बैंक अपनी सही वित्तीय सेवाओं को सही समय पर प्रदान करके लोगों के सपनों को साकार करता है।
इस अवसर पर बैंक की शाखा ने एक बॉक्स बनाया जिसमें से मौजुदा सभी कस्टमर्स ने पर्चियां निकाली जिनमें सरप्राइज गिफ्ट्स जैसे पेन, टैटूज, बैग्स और मुफ्त हॉलिडे ट्रिप (क्लब महिंद्रा) थे। बैंक की शाखा ने इस अवसर पर एक स्टीकर दिया जिसपर सभी ने अपनी इच्छायें लिखी और चिपकाई। सभी ने सरप्राइज गिफ्ट्स जीत कर इस अवसर का खूब लुफ्त उठाया। शाखा ने इस अवसर पर डिस्काउंट वाउचर भी वितरित किये। श्री रवि प्रकाश मित्तल ने कहा कि सभी लोग इसका फायदा 1 जनवरी से 31 जनवरी तक बैंक शाखा में आकर ले सकते है ।
श्री मित्तल ने बैंक के विषय में बताते हुए कहा कि एसवीसी बैंक की स्थापना सन् 1906 में हुई थी। अभी एसवीसी बैंक भारत के सबसे पुराने बैंकों में से एक है। इसने को-ऑपरेटिव बैंकिंग में अपनी एक अलग पहचान बनायी है। साथ ही साथ यह भारत का एक मात्र मल्टी-स्टेट शेहडुयल बैंक है जोकि 10 राज्यों में स्थित है। यह भारत का पहला और एकमात्र बैंक है जिसने जीनियस नाम का एक सॉफ्टवेयर बनाया है जो कि 80 से ज्यादा को-ऑपरेटिव बैंकों को सेवाएं प्रदान कर रहा है। बैंक का साल 2014-15 का कुल व्यापार 20,000 करोड़ रुपये से भी ज्यादा का रहा जिसमें 115 करोड़ रुपये का लाभ दर्ज किया है। श्री मित्तल ने कहा कि बैंक का मुख्यालय मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है और अभी बैंक कि कुल शाखाएं 181 है जिसमें 2500 से भी ज्यादा लोग कार्यरत है।IMG_9186

IMG_9181




Leave a Reply

Your email address will not be published.