BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

प्रदेश में निशक्तजन बेरोजगार न रहे इसलिए एक योजना तैयार की जा रही है: मनोहरलाल

महेश गुप्ता
चंडीगढ़, 20 नवम्बर:
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने कहा है कि प्रदेश का कोई भी निशक्तजन बेरोजगार न रहे इसके लिए हरियाणा सरकार एक योजना बना रही है।
मुख्यमंत्री ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के विकलांगजन सशक्तिकरण विभाग और प्रदेश सरकार के संयुक्त तत्वाधान में करनाल में आयोजित विकलांगजन उपकरण वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने लगभग 3200 लाभार्थियों को 2 करोड़ 90 लाख रूपये की लागत से 5276 उपकरण और कृत्रिम अंग वितरित किए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के अन्य लोकसभा क्षेत्रों में भी निशक्तजनों की संख्या का सर्वे करवाने के बाद इस प्रकार के समारोह आयोजित किए जाएंगे तथा निशक्तजनों को उपकरण और कृत्रिम अंग वितरित किए जाएंगे। इसी प्रकार से 80 से 100 प्रतिशत तक निशक्तजनों का सर्वे करवाकर उन्हें उनकी जरूरत के अनुरूप वाहन उपलब्ध करवाए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने निशक्तजनों को विभिन्न प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए 240 करोड़ रूपये का बजट रखा है।
मनोहरलाल ने कहा कि निशक्तजनों को रोजगार मुहैया करवाने की दिशा में हरियाणा कौशल मिशन में उनके लिए विशेष पाठ्यक्रम आरंभ किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में विकलांगों का आठवीं तक का एक स्कूल चल रहा हैए जिसे 10वीं कक्षा तक की मंजूरी मिल चुकी है। अगले वर्ष इस स्कूल को 12वीं कक्षा तक कर दिया जाएगा। इसके अलावा करनाल में निशक्तजनों के लिए कॉलेज खोलने के लिए प्रदेश सरकार ने केन्द्र सरकार को पांच एकड़ जमीन उपलब्ध करवा दी है। इस कॉलेज पर शुरू आती चरण में 5 करोड़ रूपये खर्च किये जाएंगे।
मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री ने कहा कि शरीर में अंग की कमी निशक्तता नहीं होती, यह तो उन लोगों की सोच है जो निशक्तजनों से दूरी बनाकर रखते है। शारीरिक रूप से विकलांग भी कईं क्षेत्रों में महत्वपूर्ण उपलब्धियां दर्ज करके सराहनीय कार्य कर रहे है,ऐसे लोगों से समाज के अन्य लोगों को सीख लेने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश पोलियो एवं कुष्ठ रोग से मुक्त है। अब सरकार ने प्रदेश को टीबी मुक्त बनाने की योजना तैयार की है।
मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं में कमी आए इसके लिए पुलिस और यातायात व्यवस्था में सुधार किए जा रहे है। उन्होंने कहा कि निशक्तजनों की पेंशन जनवरी 2016 से बढ़कर 1400 रूपये कर दी जाएगी और 2019 में यह पेंशन 2000 रूपये प्रति माह होगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने रंगोली बनाने वाली सुशीला और कुसुम को अपने ऐच्छिक कोष को 10 हजार रूपये तथा सरस्वती वंदना प्रस्तुत करने वाले टैगोर बाल निकेतन के बच्चों को पांच हजार रूपये प्रोत्साहन स्वरूप दिये।
समारोह को संबोधित करते हुए केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा कि निशक्तजनों को आत्मनिर्भर बनाने व उनका पुनर्वास करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पूरे देश में नई योजनाएं लाई जा रही है। देश में 2 करोड़ 68 लाख लोग निशक्तजन है, जिनके लिए विभाग द्वारा कैम्प आयोजित किये जा रहे है। इसके अलावा निशक्तजनों के लिए यूनिवर्सल आई कार्ड लाने की योजना बनाई गई है। इनकी खासियत यह है कि देश के किसी भी क्षेत्र का कोई भी निशक्तजन किसी अन्य राज्य या शहर में अपना कार्ड दिखाकर सुविधाओं का लाभ ले सकता है। उन्होंने लुईस ब्रेल हेलन केलर तथा सूरदास का उदहरण देते हुए कहा कि इन प्रतिभाओं ने अपने दम पर समाज के लोगों को नई प्रेरणा देने का काम किया। केन्द्रीय मंत्री ने इरा सिंघल के बारे में कहा कि निशक्त होते हुए उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में देशभर में प्रथम स्थान हासिल करके अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है।
केन्द्रीय राज्यमंत्री ने निशक्तजनों के लिए हरियाणा के करनाल में जल्द ही कॉलेज खोलने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि एलिम्को कम्पनी के आधुनिकीकरण के लिए 285 करोड़ रूपये दिये गए है। इसके लिए जर्मनी की एक कम्पनी के साथ भी सम्पर्क किया गया है। गुर्जर ने कहा कि हर साल 30 हजार मूक और बधिर बच्चे पैदा होते है। ऐसे बच्चों को सक्षम बनाने के लिए एक योजना पाईप लाईन में है। उन्होंने कहा कि सरकारी भवनों में निशक्तजनों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, इसके लिए देश के 48 शहरों को चुना गया है, जिसमें से हरियाणा के गुडगांवा और फरीदाबाद का चयन किया गया है। इन दोनों शहरों के सरकारी भवनों में निशक्तजनों के लिए रैम्प की व्यवस्था की जाएगी।
समारोह को सामाजिक, न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के संयुक्त सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने भी सम्बोधित किया। समारोह में एलिम्को के जीएम पीके दूबे ने आए हुए अतिथियों का धन्यवाद किया। इस अवसर पर एलिम्को के सीएमडी डीआर सरीन, डीजीएम सीएसआर आर के माथूर, मैनेजर रमेश चंदएऑफिसर पीओ अशोक, सीपीएस बख्शीश सिंह विर्क, ओएसडी अमरेन्द्र सिंह, घरौंडा के विधायक हरविन्द्र कल्याण, पूर्व गृह राज्यमंत्री आईडी स्वामी, नगर निगम की मेयर रेनू बाला गुप्ता सहित कईं गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।




Leave a Reply

Your email address will not be published.