BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

मानव रचना ने की प्रत्यारोपित एथलीटों के लिए बैडमिंटन और फुटबॉल प्रशिक्षण शिविर की मेजबानी।

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट।
फरीदाबाद, 6 अगस्त:
मानव रचना एजुकेशनल इंस्टीटूशन्स और डॉ० ओपी भल्ला फाउंडेशन ने पाराशर फाउंडेशन की एक पहल ऑर्गन इंडिया के साथ साझेदारी में 19 प्रत्यारोपित एथलीटों के लिए एक बैडमिंटन और फुटबॉल प्रशिक्षण शिविर की मेजबानी की। यह अनूठा प्रयास उन एथलीटों के लिए शुरू किया गया था जो ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में होने वाले वल्र्ड ट्रांसप्लांट गेम्स-2023 में भारत का प्रतिनिधित्व करने की इच्छा रखते हैं। आर्गन इंडिया पाराशर फाउंडेशन की एक पहल है विश्व प्रत्यारोपण खेलों के लिए भारत की ओर से अधिकारिक सदस्य संगठन है, जो 2023 में पर्थ ऑस्ट्रेलिया में आयोजित किया जाएगा।
यह शिविर 1 अगस्त को शुरू हुआ और 5 अगस्त को समाप्त हुआ। इसका उद्वेश्य विश्व प्रत्यारोपण खेलों 2023 में भाग लेने की उम्मीद कर रहे 19 प्रत्यारोपित एथलीटों की मदद करना था। पूरे भारत के एथलीट मानव रचना शैक्षणिक संस्थानों के परिसर में एकत्र हुए। फरीदाबाद में खेल विज्ञान केंद्र, मानव रचना खेल अकादमी, व्यवहार विज्ञान संकाय, संबद्व स्वास्थ्य विज्ञान संकाय सभी एक साथ आए और एथलीटों के साथ अपने कौशल को तेज करने और अत्याधुनिक तकनीकी और मानसिक प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए काम किया क्योंकि वे तैयारी कर रहे हैं। वल्र्ड ट्रांसप्लांट गेम्स-2023 में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ट्रांसप्लांट एथलीटों के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करें।
भारत को पारंपरिक रूप से बैडमिंटन में एक मजबूत ताकत के रूप में जाना जाता है। जिसमें पीवी सिंधु और साइना नेहवाल जैसे खिलाड़ी दुनिया के नक्शे पर अपनी छाप छोड़ते हैं। प्रत्यारोपित एथलीट भी वर्षों से भारत को मानचित्र पर ला रहे हैं। हमारे कई प्रतिरोपित एथलीटों ने 2011 से विश्व प्रत्यारोपण खेलों में पदक जीते हैं। बलवीर सिंह और डेविस जोस कोल्लनूर जैसे एथलीट पिछले एक दशक में विश्व प्रत्यारोपण खेलों में सबसे अधिक पदक विजेता रहे हैं। कभी अपंगता और बीमारी के कारण मृत्यु के कगार पर पहुंचे इन एथलीटों को अंग प्रत्यारोपण का उपहार मिला और आज वे स्वस्थ और सक्रिय जीवन जीते हैं।
मानव रचना एजुकेशनल इंस्टीटूशन्स के महानिदेशक डॉ० एनसी वाधवा ने उद्धृत किया। यह बहुत खुशी और संतोष की बात है कि डॉ० ओपी भल्ला फाउंडेशन ने 19 खिलाडिय़ों के लिए एक प्रशिक्षण शिविर की व्यवस्था की है जो या तो अंग रिसीवर या अंग दाता हैं और विश्व प्रत्यारोपण खेलों में भाग लेंगे। 2023 पर्थ ऑस्ट्रेलिया में डॉ० ओपी भल्ला फाउंडेशन मानव रचना खेल विज्ञान केंद्र और मानव रचना अकादमी ऑफ स्पोट्र्स के माध्यम से इन खिलाडिय़ों के परिसर में रहने और प्रशिक्षण के लिए सभी आवश्यक व्यवस्था कर रहा है।
कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले छात्रों के साथ विभिन्न स्तरों पर खेलों को प्रोत्साहित करने और देश का नाम रोशन करने में अग्रणी। मानव रचना स्पोट्र्स एकेडमी मानव रचना शूटिंग एकेडमी और मानव रचना स्पोट्र्स साइंस सेंटर खेल की दुनिया में करियर बनाने की इच्छुक युवा खेल प्रतिभाओं को चमकाने के केंद्र हैं। युवा प्रतिभाओं को खेलों में भाग लेने और उत्कृष्टता के लिए प्रोत्साहित करने की दिशा में योगदान के लिए भारत के माननीय राष्ट्रपति द्वारा मानव रचना को राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार 2021 से सम्मानित किया गया है।
सुनयना सिंह-सीईओ ऑर्गन इंडिया के शब्दों में मैं बहुत उत्साहित हूं कि हमारे पास भारतीय एथलीटों के साथ यह पहला प्रशिक्षण शिविर था जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। वल्र्ड ट्रांसप्लांट गेम्स एक वैश्विक आयोजन है और अन्य सभी दल अच्छी तरह से प्रशिक्षित और सुसज्जित हैं और मानव रचना स्पोट्र्स साइंस इंस्टीट्यूट और ओपी भल्ला फाउंडेशन टीम इंडिया के इतने जबरदस्त समर्थन से अब टीम इंडिया भी अच्छी तरह से तैयार होगी।
अनिका पाराशर-संस्थापक अध्यक्ष आर्गन इंडिया ने साझा किया अप्रैल 2023 में पर्थ में विश्व प्रत्यारोपण खेलों के लिए एथलीटों के भारतीय प्रतिनिधिमंडल को ले जाना एक बहुत बड़ा सौभाग्य है। इस अंतर्राष्ट्रीय आयोजन में प्रत्यारोपण रोगियों या दाताओं की भागीदारी न केवल एक है देशभक्ति का महान प्रदर्शन लेकिन प्रतिकूल परिस्थितियों पर काबू पाने और दूसरों को प्रेरित करते हुए जीवन को पूरा करने के लिए जारी रखने में मानवीय भावना की असीमता का प्रदर्शन भी। हम मानव रचना शैक्षिक संस्थानों जैसे भागीदारों के लिए आभारी हैं जो इस अविश्वसनीय कारण के लिए हमारे साथ काम कर रहे हैं हमारे देश का प्रतिनिधित्व करने और प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम होने के लिए हमारे एथलीट इन शिविरों में प्रशिक्षण के लायक हैं और प्रशिक्षण की आवश्यकता है।
मानव रचना शैक्षिक संस्थानों के तत्वावधान में डॉ० ओपी भल्ला फाउंडेशन एक परोपकारी संगठन है जिसका उद्वेश्य विभिन्न पहलों और जागरूकता अभियानों के माध्यम से समाज से संबंधित कई सामाजिक मुद्दों को संबोधित करना है।
मानव रचना स्पोट्र्स साइंस सेंटर में शिक्षाविद् और अनुप्रयुक्त खेल पुनर्वासकर्ता फिजियोथेरेपिस्ट, स्पोट्र्स फिजियोलॉजिस्ट, खेल पोषण विशेषज्ञ और संबद्ध स्वास्थ्य पेशेवर शामिल हैं। जिन्होंने विभिन्न प्रकार के पेशेवर और ओलंपिक खेलों में शीर्ष स्तर पर काम किया है। अपवाद के बिना उच्च प्रदर्शन, खेल विज्ञान, खेल चिकित्सा, खेल चोटों और खेल कोचिंग के क्षेत्रों में ज्ञान का खजाना स्थापित किया गया है। यह सभी प्रकार के व्यक्तियों के लिए जीवन शैली प्रबंधनए फिटनेस प्रशिक्षण और स्वास्थ्य और कल्याण सहायता भी प्रदान करता है।
ORGAN INDIA प्रोजेक्ट की शुरूआत 2013 में एनजीओ पाराशर फाउंडेशन की एक पहल के रूप में हुई थी और यह अंग दान के मुद्दे पर काम करने वाले भारत के प्रमुख संगठनों में से एक बन गया है। ऑर्गन इंडिया की अखिल भारतीय उपस्थिति है और यह राष्ट्रीय अंग और ऊतक प्रत्यारोपण संगठन (NOTTO) के तत्वावधान में काम करता है। ऑर्गन इंडिया अब 2023 में ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में होने वाले वल्र्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में टीम इंडिया की अगुवाई करेगी।
वल्र्ड ट्रांसप्लांट फेडरेशन 60 से अधिक देशों के प्रतिनिधित्व के साथ एक विश्वव्यापी संगठन है जिसने अद्वितीय और प्रेरक घटनाओं के माध्यम से सफल प्रत्यारोपण और जीवन के उपहार का जश्न मनाया अर्थात् ग्रीष्मकालीन और शीतकालीन विश्व प्रत्यारोपण खेल। पिछले डब्ल्यूटीजी-2019 में भारत ने 7 पदक जीते।
ऑर्गन इंडिया के साथ पंजीकृत एथलीट या तो अंग दाता या प्राप्तकर्ता हैं और यह हमारी पहल है कि हम उन्हें डॉ० ओपी भल्ला फाउंडेशन के तहत प्रायोजित करें और मानव रचना स्पोट्र्स साइंस सेंटर में विश्व स्तरीय सुविधाएं प्रदान करें और भविष्य में आने वाली प्रतियोगिताओं के लिए उनका मार्गदर्शन करें।




Leave a Reply

Your email address will not be published.