BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

जानिएं, अमृता हॉस्पिटल में ऐसी क्या खासियतें हैं जिसके लिए मोदी आ रहे हैं इसका उद्घाटन करने?

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट।
फरीदाबाद, 5 अगस्त
: ग्रेटर फरीदाबाद में खुलने जा रहा 2400 बिस्तरों वाला अमृता हॉस्पिटल पूरी तरह से पेपरलैस होगा होगा जिसका उद्घाटन करने स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 24 अगस्त को आ रहे हैं। उद्घाटन से पहले 19 अगस्त को अस्पताल परिसर में 80 महिला पुजारियों और 28 पुरुष पुजारियों द्वारा 108 होम का शुभ आयोजन किया जाएगा जिससे मठ द्वारा सेवा और समावेशी देखभाल का एक नया अध्याय शुरू होगा। 2400 बिस्तरों वाला यह स्वास्थ्य संस्थान भारत के निजी क्षेत्र का सबसे बड़ा अस्पताल होगा और माता अमृतानंदमयी मठ (एमएएम) के अधीन खुलेगा। विश्व प्रसिद्ध समाजसेविका और लाखों लोगों की आध्यात्मिक गुरु श्री माता अमृतानंदमयी देवी (अम्मा) इस अवसर पर उपस्थित रहकर समारोह की शोभा बढ़ाएंगी। हरियाणा के माननीय राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर भी अन्य गणमान्य व्यक्तियों के साथ समारोह में शामिल होंगे।
यह अस्पताल दिल्ली/एनसीआर में लोगों को नवीनतम स्वास्थ्य देखभाल प्रौद्योगिकी उपलब्ध कराने और उच्च गुणवत्ता वाली देखभाल की सुविधा प्रदान करने के अलावा और भी सुविधाएं प्रदान करेगा। अमृता हॉस्पिटल का लक्ष्य पूरे उत्तर और उत्तर-पूर्वी भारत के रोगियों को अपनी सेवाएं प्रदान करना है। आर्थिक दृष्टिकोण से अस्पताल लगभग 2,000 लोगों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार और 2,000 और लोगों के लिए अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर उपलब्ध कराकर फरीदाबाद क्षेत्र को तत्काल सहायता प्रदान करेगा। अस्पताल के एक बार पूरी तरह से चालू हो जाने के बाद अस्पताल में लगभग 10,000 कर्मचारी और 800 से अधिक डॉक्टर होंगे।
अमृता हॉस्पिटल के रेजिडेंट मेडिकल डायरेक्टर डॉ. संजीव के सिंह के अनुसार यह अत्याधुनिक चिकित्सा अनुसंधान अत्यधिक महत्वपूर्ण साबित होगा। उन्होंने बताया कि अस्पताल में एक समर्पित अनुसंधान खंड होगा जो सात मंजिल की इमारत में कुल तीन लाख वर्ग फुट में फैला होगा जिसमें विशेष ग्रेड ए से डी जीएमपी प्रयोगशालाएं होंगी। यहां नए डायग्नोस्टिक मार्कर्स की पहचान करने पर एआई, एमएल, बायोइंफार्मेटिक्स आदि ध्यान दिया जाएगा। अस्पताल चिकित्सा विज्ञान में दुनिया के कुछ सबसे बड़े नामों के साथ अनुसंधान सहयोग करने की प्रक्रिया में हैं।
डॉ. संजीव के सिंह ने बताया कि अस्पताल द्वारा पेश किया जाने वाला व्यापक प्रत्यारोपण कार्यक्रम देश में सबसे बड़े प्रत्यारोपण कार्यक्रमों में से एक होगा। अमृता हॉस्पिटल कोच्चि ने भारत के पहले दो डबल हैंड ट्रांसप्लांट और देश के पहले अपर-आर्म डबल हैंड ट्रांसप्लांट जैसी जटिल सर्जरी के साथ कई अन्य जटिल सर्जरी की है और इसी तरह की महत्वपूर्ण सर्जरी अमृता हॉस्पिटल फरीदाबाद में भी की जाएगी।
ग्रेटर फरीदाबाद सेक्टर-88 में स्थित यह अस्पताल कुल एक करोड़ वर्ग फुट में निर्मित होगा जिसमें 14 मंजिला टावर होगा जहां प्रमुख चिकित्सा सुविधाएं और रोगियों के लिए जगह होगी। यहां ऑन्कोलॉजी, कार्डियक साइंसेस, न्यूरोसाइंसेस, गैस्ट्रो-साइंसेस, रीनल साइंसेस, बोन डिजीज और ट्रामा, ट्रांसप्लांट, और मदर एंड चाइल्ड केयर सहित 81 स्पेशियलिटीज और आठ उत्कृष्टता केंद्र होंगे। संक्रामक रोगों से निपटने के लिए अस्पताल में भारत का सबसे बड़ा विभाग भी होगा।
अमृता हॉस्पिटल फरीदाबाद भारत के स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे को और मजबूत करेगा। यह बहुत कम कार्बन फुटप्रिंट के साथ देश की सबसे बड़ी ग्रीन-बिल्डिंग हेल्थकेयर परियोजनाओं में से एक है। यहां से शून्य अपशिष्ट की निकासी होगी और यह अस्पताल पूरी तरह से पेपरलेस होगा।
अपनी सामुदायिक पहल के तहत अमृता हॉस्पिटल्स ने फरीदाबाद और उसके आसपास विभिन्न रेजीडेंस वेलफेयर एसोसिएशन में पहले से ही मेडिकल आउटरीच प्रोग्राम शुरू कर दिए हैं। इनमें बुजुर्गों के लिए जागरूकता कार्यक्रम शामिल हैं जिनके तहत न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से पीडि़त लोगों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। इसके अलावा स्कूली बच्चों के लिए स्वास्थ्य वार्ता आयोजित की जाती है, सामान्य स्वास्थ्य जांच की जाती है और कई अन्य सुविधाएं उपलब्ध करायी जाती है।
माता अमृतानंदमयी देवी के आशीर्वाद और प्रेम से निर्मित यह विशाल सुपर-स्पेशियलिटी स्वास्थ्य सुविधा भारत के लोगों की बीमारी को ठीक करने, जरूरतमंदों की मदद करने और चिकित्सा विज्ञान को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित है। 1,200 बिस्तरों वाला यह प्रतिष्ठित अमृता हॉस्पिटल, कोच्चि के बाद भारत में दूसरा बड़ा अमृता हॉस्पिटल है। अमृता हॉस्पिटल कोच्चि को 25 साल पहले माता अमृतानंदमयी मठ द्वारा ही स्थापित किया गया था।
एमएएम गरीबों की पांच बुनियादी जरूरतों-भोजन, आश्रय, स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा और आजीविका की हर जरूरत को पूरा करने में मदद करके गरीबों के बोझ को कम करने पर ध्यान केंद्रित करता है। इसी मंशा के साथ अमृता हॉस्पिटल फरीदाबाद, 1998 में शुरू हुए अमृता हॉस्पिटल्स की विरासत को आगे बढ़ाएगा।




Leave a Reply

Your email address will not be published.