BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

DLF इंडस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा आत्मनिर्भर भारत थीम के साथ बिजनेस समिट की गई।

आत्मनिर्भर भारत के लिए लघु उद्योगों की भूमिका काफी आवश्यक: राजेश नागर
मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट।
फरीदाबाद, 28 दिसम्ब
र: DLF इंडस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा आत्मनिर्भर भारत थीम के साथ 10वीं DLF इंडस्ट्रीज एसोसिएशन बिजनेस समिट 2021 सम्पन्न हुई। इससे पूर्व DLF इंडस्ट्रीज एसोसिएशन की 19वीं वार्षिक आम सभा का आयोजन भी किया गया। बिजनेस समिट को तिगांव के विधायक राजेश नागर, नेशनल स्माल इंडस्ट्रीज कॉरपोरेशन के प्लानिंग व मार्किटिंग डॉयरेक्टर पी. उद्य कुमार, नगर निगम आयुक्त यशपाल यादव, सिडबी दिल्ली एनसीआर के महाप्रबंधक सुश्री अनुभा प्रसाद ने संबोधित किया। एचएचपीसीबी की आरओ सुश्री सुमिता कनोडिया ने समिट में अपने संदेश भेजकर समिट की सफलता की कामना की।
इस मौके पर विधायक राजेश नागर ने डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रधान जे.पी. मल्होत्रा व उनकी टीम को समिट के लिए बधाई देते हुए कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लिए लघु उद्योगों की भूमिका काफी आवश्यक है क्योंकि यह क्षेत्र रोजगार व राजस्व में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि औद्योगिक समस्याओं के समाधान तथा इंफ्रास्ट्रक्चर की उपलब्धता के लिए वे तत्पर रहेंगे। न्यू इंडस्ट्रीयल एरिया को नियमित करने संबंधी एसोसिएशन के प्रधान जे.पी. मल्होत्रा की मांग पर राजेश नागर ने विश्वास दिलाया कि वे इस संबंध में मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बात करेंगे।
इस अवसर पर नगर निगम आयुक्त यशपाल यादव ने स्वच्छ बनेगा फरीदाबाद मुहिम में उद्योग प्रबंधकों व जनता की भागीदारी की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि फरीदाबाद को कचरामुक्त बनाने के लिए चलाए गए अभियान में सभी एकजुट होकर आगे आएं। श्री यादव ने 30 व 31 दिसम्बर को आयोजित स्वच्छ फरीदाबाद अभियान के संबंध में जानकारी देते हुए डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन सहित औद्योगिक संगठनों से सहयोग का आह्वान किया। श्री यशपाल यादव ने एसोसिएशन के प्रधान जे.पी मल्होत्रा व महासचिव विजय आर राघवन व उनकी टीम द्वारा डोर टू डोर कलैक्शन तथा स्वच्छता अभियान में भागीदारी के लिए किए जा रहेे कार्यों की सराहना की।
सिडबी की महाप्रबंधक सुश्री अनुभा प्रसाद ने सिडबी द्वारा उद्योगों को दी जाने वाली आर्थिक सहायता तथा कम ब्याज दरों से संबंधित विभिन्न योजनाओं के संबंध में जानकारी देते कहा कि आत्मनिर्भर भारत ने सिडबी औद्योगिक विकास के प्रति कृतसंकल्प है। समिट में ब्रह्मकुमारी पूनम द्वारा शांति प्रार्थना में सभी ने शामिल होकर विश्व कल्याण की कामना की।
इससे पूर्व आगंतुकों का स्वागत करते हुए एसोसिएशन के प्रधान जे.पी मल्होत्रा ने बताया कि 10वीं बिजनेस समिट 2021 का उद्वेश्य औद्योगिक नीति के प्रति जागरूकता लाना है। उन्होंने बताया कि समिट 2021 सरकार व इसकी एजेंसियों तथा विभागों और उद्योगों के बीच नेटवर्किंग बनाने के लिए महत्वपूर्ण प्लेटफार्म सिद्ध होगा।
इस मौके पर डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रधान जे.पी मल्होत्रा ने हरियाणा सरकार से आग्रह किया कि वह उद्योग हितैषी नीतियों के क्रियान्वयन पर विशेष रूप से ध्यान दे। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत में उद्योग अपनी भागीदारी को प्रभावी रूप से निभाना चाहते हैं जिसके लिए इंफ्रास्ट्रक्चर व साकारात्मक नीति जरूरी है। श्री मल्होत्रा ने डुईग बिजनेस के लिये साकारात्मक माहौल बनाने तथा नीतियां तैयार करने का आह्वान किया।
न्यू डीएलएफ क्षेत्र को रेगुलाइज करने की मांग करते श्री मल्होत्रा ने कहा कि 18 एकड़ में से 16 एकड़ से अधिक भूमि में औद्योगिक संस्थान कार्यरत हैं, ऐसे में इस क्षेत्र को नियमित किया जाना चाहिए। श्री मल्होत्रा ने इस संबंध में विधायक राजेश नागर व निगमायुक्त का ध्यान आकर्षित किया।
इस अवसर पर सर्वश्री जीएस त्यागी, रमणीक प्रभाकर, एमपी रूंगटा, संदीप हांडा, केआर गुप्ता, एसके दत्त, एचएल भुटानी, ऋषि अग्रवाल, अमरजीत सिंह लांबा, रवि वासुदेव, मुकेश कालरा, पीजेएस सरना, प्रमोद राणा, कृष्ण कौशिक, वीरभान शर्मा और आईएमएसएमई ऑफ इंडिया के चेयरमैन राजीव चावला ने श्री मल्होत्रा को बिजनेस समिट 2021 के सफल आयोजन के लिये बधाई दी।
वहीं विशाल मल्होत्रा ने भविष्य में डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन को सक्रिय भूमिका का विश्वास दिलाया। सर्वश्री बीआर भाटिया, एचके बत्तरा, रवि भूषण खत्री ने भी अपनी शुभकामनाएं भेजीं।
एम पी रूंगटा ने जहां बिजनेस समिट के लिये डीएलएफ की टीम को बधाई दी वहीं डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन अचीवर्स अवार्ड विजेताओं को शुभकामनाएं देते कहा कि आत्मनिर्भर भारत की ओर यह प्रभावी कदम है। धन्यवाद प्रस्ताव श्री विजय राघवन ने प्रस्तुत किया जबकि एसोसिएशन की गतिविधियों व अवार्ड संबंधी तथ्यों को बाखूबी प्रस्तुत किया। बिजनेस समिट में लगभग 150 एमएसएमई आंत्रेप्यूनर्स व प्रतिनिधि शामिल हुए।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *