BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

ग्रामीणों को नुक्कड़ नाटक के माध्यम से किया जागरूक

नवीन गुप्ता
फरीदाबाद, 7 नवंबर:
ग्रामीण क्षेत्र में सप्लाई होने वाले पेयजल की स्वच्छता व जल संरक्षण जागरूकता को लेकर जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग पलवल व जल एवं स्वच्छता सहायक संगठन द्वारा गांव बघोला, गहलब व होसगाबाद में नुक्कड़ का आयोजन किया गया। इन गांवों में नाटकों के माध्यम से बताया कि किस तरह से पानी का स्तर लगातार घट रहा है और पेयजल के गंभीर संकट उत्पन्न हो रहे हैं। यदि समय रहते जनता इस ओर जागरूक नहीं होगी तो आने वाले समय में लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध नहीं हो पाएगा।
गांव बघोला, गहलब व होसगाबाद में आयोजित नुक्कड नाटक के मौके पर उपस्थित जन समूह को संबोधित करते हुए जन स्वास्थ्य विभाग के जिला सलाहकार रणधीर मताना ने संयुक्त रूप से कहा कि विभाग लोगों को स्वच्छ पेयजल पहुंचाने के लिए कृत संकल्प है, लेकिन इसके लिए ग्रामीणों का सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण कई तरीकों से जल संरक्षण कर सकते हैं। अपने घरों में नलों पर टेप लगाकर जल संरक्षण किया जा सकता है तो खेतों की जमीन को लेवलिंग करके, क्यारियां बनाकर व जरूरत के मुताबिक पानी की आपूर्ति करके जल संरक्षण किया जा सकता है। इस मौके पर मंच संचालन कर रहे पृथला के बीआरसी विश्वास सहरावत ने कहा कि वर्षा जल संरक्षण के समय की जरूरत बन गई है। हम वर्षा के जल को संरक्षण करके काफी हद तक पानी की पूर्ति कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि घरों की छतों से वर्षा का पानी इक्_ा किया जा सकता है। इसके अलावा स्कूल व सरकारी भवनों से वर्षा जल को किसी तालाब या टैंक में इक्टठा किया जा सकता है। पलवल के बीआरसी संजय कुमार ने कहा कि जल संरक्षण के साथ ही हमें इसकी जानकारी होनी चाहिए कि जो पानी हम पीने के लिए उपयोग कर रहे हैं, वह पीने के लायक भी है या नहीं। इसके लिए पानी को लैब में चेक करवाया जाना चाहिए। लेकिन विभाग द्वारा प्रथम लेवल पर पानी चैक करने के लिए एफटीके उपलब्ध करवाई गई है, जिससे सभी लोग अपने अपने घरों का पानी खुद चैक कर सकते हैं। इस मौके पर हथीन के बीआरसी पृथ्वीपाल सिंह ने लोगों को स्वच्छता के बारे में बताते हुए कहा कि जल संरक्षण व स्वच्छता सिक्के के दो पहलु है। स्वच्छता दो तरह से होती है। पहली निजी स्वच्छता व दूसरी बाहरी स्वच्छता होती है। व्यक्ति अपने शरीर को साफ-सुथरा रखकर निजी स्वच्छता बनाएं रखता है, जबकि अपने आसपास व गांव की साफ-सफाई करके बाहरी स्वच्छता बनाए रख सकता है। इस मौके पर बीआरसी सुनील कुमार, बीआरसी मंजूरानी, महका आंगन की टीम, नुक्कड़ नाटक की टीम, पम्प आप्रेटर सहित स्कूल विद्यार्थी व गांवों के सैकड़़ों लोग उपस्थित थे।
IMG_3170




Leave a Reply

Your email address will not be published.