BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

वी. उमाशंकर हो सकते हैं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव!

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की खास रिपोर्ट।
चंडीगढ़, 14 सितंबर:
CM मनोहरलाल खट्टर के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर के विश्व बैंक में Executive Director बन जाने के बाद उनकी इस सीट पर कौन बैठेगा, इसको लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। इस महत्वपूर्ण सीट के लिए सबसे ज्यादा नाम जो चर्चा में आ रहा है वो वी.उमाशंकर का है जोकि फिलहाल CM के अतिरिक्त प्रधान सचिव हैं तथा 1993 बैच के वरिष्ठ IAS अधिकारी हैं। उमाशंकर की गिनती ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियो में होती है। वी. उमाशंकर CM व उनकी टीम के विश्वासपात्र हैं। यह एडिशनल प्रिंसिपल सेक्रेटरी 22 अक्तूबर, 2018 में लगाए गए थे। मुख्यमंत्री निवास व कार्यालय के सभी अधिकारियों से समन्वय के साथ सारे प्रशासन पर इनकी पकड़ है। CM मनोहरलाल के भरोसे के लोगों में इनकी गिनती होती है।
उमाशंकर का फ़रीदाबाद और गुरुग्राम से भी गहरा नाता रहा है। वे जहां फ़रीदाबाद में नगर निगम के कमिश्नर रहे चुके हैं वहीं गुरुग्राम में GMDA के भी CEO रह चुके हैं। उनकी धर्मपत्नी दीप्ति उमाशंकर भी हरियाणा कैडर की वरिष्ठ IAS अधिकारी हैं।
काबिलेगौर रहे कि राजेश खुल्लर नवम्बर 2015 से हरियाणा सरकार में प्रधान सचिव पद पर तैनात हैं। उनके उत्तराधिकारी के रूप में मुख्यमंत्री मनोहरलाल किसे चुनते हैं व किस पर भरोसा करते हैं, यह उनके विवेक पर निर्भर करता है।
उमाशंकर के अलावा जो नाम सुनने में आ रहे हैं उनमें कृषि व सहकारिता विभाग के ACS संजीव कौशल व हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के ACS राजीव अरोड़ा के नाम शामिल हैं। संजीव कौशल 1986 बैच व राजीव अरोड़ा 1987 बैच के IAS अधिकारी हैं। इनमें से संजीव कौशल 30 अक्तूबर, 2014 को भाजपा सरकार आने के बाद CM के प्रधान सचिव लगाए गए थे जो नवम्बर 2015 तक इस पद पर रहे। संजीव कौशल जो IAS अधिकारियों की वरिष्ठता सूची में ऊपर हैं व 2021 में मुख्य सचिव बनने का भी उनका नम्बर है। वहीं विजय वर्धन 1985 के IAS हैं व 30 नवम्बर, 2021 को उनकी रिटायरमेंट है। हरियाणा की वर्तमान चीफ सेक्रेटरी केशनी आनंद अरोड़ा 1983 बैच की हैं व 30 सितंबर, 2020 को उनकी रिटायरमेंट हैं। केशनी के बाद विजय वर्धन का चीफ सेक्रेटरी बनना लगभग तय है। क्योंकि 1984 बैच के IAS सुनील गुलाटी जो सेवानिवृत्त 30 अप्रैल, 2021 को होंगे उन्हें सरकार सचिव बनाने के मूड में नजर नहीं आती।
अगर हम बात करें जातिगत समीकरण को लेकर तो
हरियाणा में वर्तमान में प्रधान सचिव व मुख्य सचिव दोनों महत्वपूर्ण पदों पर पंजाबी ऑफिसर हैं। मुख्यमंत्री मनोहरलाल Part-2 में प्रिंसिपल सचिव राजेश खुल्लर व चीफ सेक्रेटरी केशनी आनंद अरोड़ा यह दो प्रमुख पंजाबी चेहरे हैं। केशनी की सेवानिवृत्ति भी इसी माह 30 सितंबर को है। खुल्लर के विश्व बैंक व केशनी की सेवानिवृत्ति के चलते क्या इन दो महत्वपूर्ण पदों में से कोई पद किसी पंजाबी IAS अधिकारी को भी मिलेगा या नहीं, इस पर चर्चाएं हरियाणा सचिवालय में हैं।
संजीव कौशल व राजीव अरोड़ा दोनों पंजाबी ऑफिसरों की श्रेणी में आते हैं। संजीव कौशल के पास प्रधान सचिव व ACS लोक संपर्क विभाग का लंबा अनुभव है। राजीव अरोड़ा जो स्वास्थ्य विभाग के ACS है, इन्होंने कोरोना के समय मे जहां मुख्यमंत्री का विश्वास जीता है वहीं गृह व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को भी पूर्ण विश्वास में लेकर काम किया है।
ध्यान रहे कि खुल्लर के पास गृह विभाग के अंदर जेल, क्रिमिनल इंवेस्टिगेशन, होम एडमिनिस्ट्रेशन, एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ जस्टिस जैसे अलग-अलग विभागों का भी जिम्मा मिला है। मुख्यमंत्री मनोहरलाल के पास से खुल्लर के विश्व बैंक में जाने से प्रशाशनिक टीम में भी भारी फेरबदल होगा क्योंकि जो नए प्रधान सचिव होंगे वह अपनी मनपसंद टीम को पूरी तवज्जो देंगे।
खुल्लर से पहले IAS धनेन्द्र कुमार भी विश्व बैंक में सेवाएं दे चुके हैं:-
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नवंबर, 2015 से प्रधान सचिव राजेश कुमार खुल्लर, जो 1988 बैच के हरियाणा कैडर के IAS अधिकारी हैं एवं जो साथ-साथ ही अतिरिक्त मुख्य सचिव, सूचना, लोक सम्पर्क और भाषा विभाग भी है को आज केंद्र सरकार की नियुक्ति सम्बन्धी समिति द्वारा एक आदेश जारी कर वाशिंगटन डी.सी., अमेरिका में स्थित World बैंक का एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर (कार्यकारी निदेशक) नियुक्त किया गया है। खुल्लर का World बैंक में कार्यकाल तीन वर्षों के लिए अथवा उनकी सेवानिवृति अर्थात 31 अगस्त 2023 तक अथवा केंद्र सरकार द्वारा जारी आगे आदेशों तक, जो भी पहले हो, तक होगा।
खुल्लर फरवरी, 2011 से फरवरी, 2015 तक केंद्र सरकार में प्रतिनियुक्ति (डेपुटेशन) पर भी रहे थे। खुल्लर की धर्मपत्नी सोनिया त्रिखा खुल्लर वर्तमान में हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक कार्यकाल में निदेशक पद पर कार्यरत हैं। हाईकोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार के मुताबिक इससे पूर्व हरियाणा कैडर के 1968 बैच के IAS धनेन्द्र कुमार भी वर्ष 2005 से वर्ष 2009 तक World बैंक में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर के पद पर रहे हैं।
कुल मिलाकर अब ये देखना है कि मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव की सीट पर कौन सा अधिकारी विराजमान होकर अपनी हुकूमत चलाता है।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *