BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

मंत्री समर्थक टीपू बंसल और डिम्पल की ही थी टैंकर में पकड़ी गई अवैध शराब की 900 पेटियां, हुआ खुलासा!

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की खास रिपोर्ट
फरीदाबाद, 10 अक्टूबर:
पुलिस कमिश्रर ओपी सिंह के शराब तस्करों पर लगाम लगाने के आदेशों के बाद फरीदाबाद पुलिस पूरी तरह से हरकत में आई हुई है। वो रोजाना कहीं ना कहीं अवैध रूप से सप्लाई की जाने वाली शराब की पेटियों को बरामद करने में लगी है।
इसी कड़ी में थाना एसजीएम नगर पुलिस ने वीरवार रात शराब की 900 पेटियों से भरे एक टैंकर
(HR38-Q-9300) को ड्राईवर संतोष सहित पकडऩे में सफलता हासिल की थी। कल शुक्रवार को पुलिस ने ड्राईवर संतोष को अदालत में पेश कर उसे पूछताछ के लिए एक दिन के पुलिस रिमांड पर लिया था ताकि पता लगाया जा सके कि पकड़ी गई अवैध शराब का मालिक कौन है।
पुलिस सुत्रों के मुताबिक पुलिस रिमांड के दौरान ड्राईवर संतोष ने खुलासा किया कि टैंकर में जो 900 पेटी शराब की थी वो शराब ठेकेदार सुरेश बंसल उर्फ टीपू तथा राकेश कुमार बंसल उर्फ डिम्पल नामक दोनों भाईयों की थी। जबकि जो टैंकर है वो ट्रांसपोर्टर असीम सलूजा का था जोकि टीपू और डिम्पल असीम से किराए पर लेते हैं। बकौल जांच अधिकारी इस मामले में उक्त दोनों के नामों के खुलासे के बाद अब इन दोनों भाईंयो से पूछताछ की जाएगी।
हम अपने पाठकों को एक बार फिर बता दें कि इस सारे मामले से मैट्रो प्लस कल शुक्रवार को ही पर्दा उठा चुका था कि पकड़ी गई शराब किसकी बताई जा रही है। और अब पुलिस रिमांड के दौरान की गई पूछताछ में उपरोक्त नामों का खुलासा हो ही गया है।
हालांकि अपने आपको प्रदेश के एक कैबिनेट मंत्री का खासखास बताने वाले टीपू बंसल ने पुलिस द्वारा पकड़ी गई शराब से पूरी तरह पल्ला झाड़ते हुए कहा है कि पकड़ी गई शराब की 900 पेटियां उनकी ना होकर असीम सलूजा की हैं। लेकिन फिलहाल अब पुलिस पुछताछ में खुलासा हो चुका है कि शराब की 900 पेटियां सुरेश बंसल उर्फ टीपू तथा राकेश कुमार बंसल उर्फ डिम्पल नामक दोनों भाईयों की थी।
फिलहाल इस मामले से बचने के लिए दोनों भाई पुलिस पर राजनैतिक दबाव डलवाने में लगे हुए हैं।
अब देखना यह है कि पुलिस इस मामले में क्या कार्यवाही अमल में लाती है।

  • कौन है टीपू बंसल और क्या है इनका इतिहास, बताएंगे आपको अपनी अगली खबरों में विस्तार से?



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *