BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

सूचना क्रांति एवं आधुनिक भारत के निर्माता थे राजीव: कृष्ण अत्री

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट
फरीदाबाद, 20 अगस्त:
एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न स्व० राजीव गांधी की 75वीं जयंती पर पंडित जवाहरलाल नेहरू कॉलेज में 11 पौधे रोपे गए। इस मौके पर समस्त छात्र एवं कार्यकत्र्ताओं ने स्व० राजीव के चित्र पर माल्यार्पण करके श्रद्धासुमन अर्पित किये। एनएसयूआई द्वारा राजीव वृक्ष के नाम से राष्ट्रीय कार्यक्रम किया जा रहा है जिसके तहत पूरे देशभर में एनएसयूआई पौधारोपण कर रही है। इस कार्यक्रम का आयोजन एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री ने किया। इस मौके पर नेहरू कॉलेज की प्राचार्या श्रीमति प्रीता कौशिक, प्रोफेसर ओपी रावत, दिनेश जून, विमल गौतम आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे।
सभा को संबोधित करते हुए एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री ने कहा कि भारत के इतिहास में 20 अगस्त, 1944 को मुंबई में दूरगामी सोच के एक महान व्यक्तित्व का जन्म हुआ था जोकि 40 वर्ष की उम्र में प्रधानमंत्री बनने वाले सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री थे। संभवत: दुनिया के उन युवा राजनेताओं में से एक है जिन्होंने सरकार का नेतृत्व किया था तथा पिछले सात चुनावों की तुलना में लोकप्रिय वोट अधिक अनुपात में मिले और पार्टी ने रिकॉर्ड सीटें हासिल की।
अत्री ने कहा कि स्वभाव से गंभीर लेकिन आधुनिक सोच एवं निर्णय लेने की अद्भुत क्षमता वाले श्री गांधी देश को दुनिया की उच्च तकनीकों से पूर्ण करना चाहते थे। और जैसा कि वे बार-बार कहते थे कि भारत की एकता को बनाये रखने के उद्देश्य के अलावा उनके अन्य प्रमुख उद्देश्यों में से एक है। 21वीं सदी के भारत का निर्माण तथा उन्होंने भारत के युवाओं को 18 वर्ष की उम्र में देश मे वोट का अधिकार दिलाकर जो शक्ति प्रदान की थीए आज उसी की बदौलत युवा वर्ग देश की सक्रिय राजनीति में अपना योगदान दे रहे है।
उन्होंने कहा कि आज के दिन हमे स्व० राजीव गांधी के आदर्शों को अपनाकर उनके बताए मार्गो पर चलना चाहिएए यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
इस मौके पर छात्र नेता दुर्गेश दुग्गल, मोहित भाटी, विक्रम यादव, दिनेश कटारिया, अमन पंडित, दीपांशु, राहुल वर्मा, ऋषभ यादव, रवि प्रकाश, अंकित वर्मा, प्रियंका सूर्यवंशी, प्रिया मिश्रा, नेहा, सुमन, रजनी, स्नेहा, कोमल, पल्लवी, खुशबू आदि मौजूद थे।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *