BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

जल-माफियाओं पर जिला प्रशासन की अब टेड़ी नजर, पानी की एक-एक बूंद का हिसाब रखेगा प्रशासन। जानें कैसे?

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट
फरीदाबाद, 30 जून
: शहर में अवैध रूप से पानी के टैंकरों द्वारा पानी बेचने वाले जल-माफियाओं पर जिला प्रशासन की अब टेड़ी नजर है। इन जल-माफियाओं पर शिकंजा कसने और शहर में हो रहे जल संकट से निपटने के लिए सरकार अब पानी की एक-एक बूंद का हिसाब रखेगी ताकि भूजल का दोहन न हो पाए। यह कहना है जिला उपायुक्त जितेन्द्र यादव का। उन्होंंने बताया कि इसके लिए सरकार ने अब पानी सप्लाई करने वाले टैंकरों का पंजीकरण अनिवार्य कर दिया है। इसको लेकर जिला उपायुक्त कार्यालय में एक मिटिंग हुई जिसमें सिटी मजिस्ट्रेट नसीब कुमार के अलावा संबंधित अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश दिए गए।
बता दें कि शहर में टैंकरों द्वारा धड़ल्ले से अवैध रूप से पानी की सप्लाई की जा रही है। ऐसे में टैंकरों का पंजीकरण और उन पर जीपीएस लगने से इनकी पूरी निगरानी रखी जा सकेगी। ताकि यह पता चल सके कि टैंकर कहां से पानी सप्लाई कर रहा और कहां ले जा रहा है। इसके साथ-साथ किस काम के लिए कितना पानी चाहिए और वह कितने रूपये में मिल सकेगा इसकी पूरी जानकारी ऐप पर उपलब्ध होगी।
जिला उपायुक्त जितेंद्र यादव नेे बताया कि सभी ट्रांसपोर्टर को अब ऐप पर रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य होगा। ऐप के माध्यम से घर बैठे ही अब शहर के लोग पीने का पानी मंगवा सकते हैं। कमर्शियल, इंडस्ट्रियल और निर्माण कार्य के लिए भी पानी उपलब्ध होगा। इसके लिए रेट भी तय कर दिए गए हैं। जो लोग ऐप से टैंकर बुक करेंगे उसकी सूचना टैंकर संचालक के पास जाएगी। संचालक एफएमडीए के सोर्स से पानी भरकर लोगों तक पहुंचाएंगे। ऐप के माध्यम से टैंकर बुक करने व्यक्ति को पानी की कीमत और क्वालिटी की भी पूरी जानकारी हासिल होगी। इससे अवैध भूजल दोहन पर लगाम लग सकेगी।
जिला उपायुक्त जितेन्द्र यादव ने बताया कि एफएमडीए ने एक लिंक वेबसाइट पर जारी किया है जहां जाकर टैंकर संचालक रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।
इसके अलावा लिंक https://onemapfmda.gmda.gov.in/gmws/authentication-signup.html पर भी रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। रजिस्ट्रेशन के बाद एक बार कोड भी दिया जाएगा, जो टैंकर पर लगाया जाएगा। ऐप के जरिए पुलिस चेकिंग के दौरान पुलिस टैंकर पर लगे बार कोड को स्कैन कर उस टैंकर के वैध या अवैध होने की जानकारी प्राप्त कर सकेगी।




Leave a Reply

Your email address will not be published.