BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

शिक्षा मंत्री के गृह जिले के 22 सहित प्रदेश के 136 सरकारी स्कूलों पर लगा ताला, जानिए क्यों?

शिक्षा विभाग ने 6 साल में 40 नए सरकारी स्कूल खोले तो 136 सरकारी स्कूलों पर खुद ताला जड़ा।
मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट
चंडीगढ़, 18 मार्च:
हरियाणा में प्रदेश सरकार और शिक्षा विभाग बच्चों के मौलिक शिक्षा अधिकार को लेकर कितना संजीदा हैं, इसका ताजा उदाहरण एक RTI के खुलासे से मिला है। स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बृजपाल परमार ने मौलिक शिक्षा निदेशालय ने RTI के तहत सरकारी स्कूलों से संबंधित जानकारी मांगी थी। बृजपाल परमार की RTI के जवाब में खुलासा हुआ कि हरियाणा मौलिक शिक्षा निदेशालय ने पिछले छह साल के दौरान प्रदेश में 40 नए सरकारी विद्यालय खोले हैं, जबकि मौलिक शिक्षा निदेशालय ने ही खुद प्रदेश भर में चल रहे 136 प्राइमरी सरकारी स्कूलों पर ताला लगा दिया यानि इन्हें स्थायी तौर पर बंद करा दिया।
बृजपाल परमार ने बताया कि 40 नए स्कूलों में भिवानी, फतेहाबाद, हिसार, झज्जर, करनाल, पलवल, पंचकूला, सिरसा में एक-एक प्राइमरी स्कूल खुला है। जबकि गुरूग्राम में 13 नए प्राइमरी स्कूल खुले हैं। मेवात के नूंह में 19 नए प्राइमरी स्कूल खुले हैं।
स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बृजपाल परमार ने बताया कि आरटीआई के जवाब में शिक्षा विभाग ने तथ्य उपलब्ध कराए कि अप्रैल 2014 से लेकर जनवरी 2020 तक कक्षा पहली से पांचवीं तक 40 नए प्राइमरी सरकारी स्कूल प्रदेश भर में खोले हैं। इन नए स्कूूलों में शिक्षकों पर इस अवधि के दौरान 51 करोड़, 81 लाख, 82 हजार, 580 रुपये का बजट खर्च किया गया है। जबकि पहली से आठवीं तक कोई नया विद्यालय नहीं खोला गया है।
पूर्व और वर्तमान शिक्षामंत्री के गृह जिलों में ही सबसे अधिक सरकारी स्कूल हुए बंद:-
बृजपाल परमार ने बताया कि आरटीआई के जवाब में यह पाया गया है कि पूर्व शिक्षामंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा के गृह जिला महेंद्रगढ़ में 19 प्राइमरी स्कूल बंद हुए हैं, जबकि वर्तमान शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर के गृह जिला यमुनानगर में सबसे अधिक 22 प्राइमरी स्कूलों पर ताला लग चुका है। बृजपाल परमार ने बताया कि प्रदेश सरकार का आरटीई एक्ट के तहत बच्चों को मौलिक शिक्षा अधिकार के तहत प्राइमरी शिक्षा दिलाना दायित्व बनता है। मगर सरकारी स्कूल ही बंद हो रहे हैं तो फिर बच्चों के इस अधिकार का भी हनन होना लाजमी है।

किस जिले में कितने प्राइमरी स्कूल हुए छह साल के दौरान बंद
जिला प्राइमरी सरकारी स्कूल

  1. अंबाला 07
  2. भिवानी 06
  3. फतेहाबाद 04
  4. गुरूग्राम 08
  5. हिसार 06
  6. झज्जर 07
  7. जींद 08
  8. कैथल 08
  9. करनाल 03
  10. कुरुक्षेत्र 03
  11. महेंद्रगढ़ 19
  12. नूंह मेवात 06
  13. पलवल 01
  14. रेवाड़ी 08
  15. रोहतक 05
  16. सोनीपत 11
  17. यमुनानगर 22
  18. पंचकूला 02
  19. सिरसा 01
  20. चरखी दादरी 01



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *