BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

पतन की ओर अग्रसर इनेलो की एक ओर विकेट गिरी, चौटाला पर अतीत से सबक ना लेने का आरोप

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट
फरीदाबाद, 13 जनवरी: इनेलो लगातार तब से पतन की ओर अग्रसर है, जब से इनेलो सुप्रीमों एवं पूर्व मुख्यमंत्री चौ० ओमप्रकाश चौटाला ने अपने बड़े पुत्र डॉ.अजय सिंह चौटाला तथा उनके दोनों पुत्रों दुष्यंत चौटाला व दिग्विजय चौटाला को इनेलो से बाहर का रास्ता दिखाया है। जेल में रहते हुए जिस तरह से ओमप्रकाश चौटाला ने उक्त तीनों को पार्टी से बाहर किया, उसी तरह लगता है प्रदेश की जनता ने भी इनेलो को सत्ता से बाहर करने का मन बनाकर दुष्यंत में अपनी आस्था जता दी है। शायद यही कारण रहा कि आज दुष्यंत चौटाला प्रदेश सरकार में उप-मुख्यमंत्री हैं। वो बात अलग है कि लोगों से किए जिन वादों के बलबूते पर जनता ने उन्हें भाजपा के खिलाफ अपना जनादेश दिया था, उन पर वो खरा नहीं उतर रहे हैं और जोड़तोड़ की राजनीति कर प्रदेश की जनता के खिलाफ जाकर उप-मुख्यमंत्री की कुर्सी पर जा बैठे।
वहीं दूसरी तरफ इनेलो कार्यकर्ता लगातार पार्टी छोड़ते जा रहे और इनेलो अपना अस्तित्व बचाने में लगी हुई है। अगर ताजा हालात देखे जाएं तो पार्टी फिलहाल राजनैतिक हाशिए पर खड़ी है। इसी क्रम में इनेलो सुप्रीमो चौ० ओमप्रकाश चौटाला पर कटाक्ष करते हुए आज वर्षों पुराने पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता एवं जिला प्रधान महासचिव प्रेम सिंह धनकड़ ने भी इनेलो की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है।
प्रेम सिंह धनकड़ ने कहा है कि अक्टूबर 2018 से शुरू हुई इनैलो पार्टी में हुई फूट को संभालने में इनैलो सुप्रीमो चौ० ओमप्रकाश चौटाला असफल रहे हैं। श्री चौटाला आज भी पार्टी कार्यकर्ताओं व हरियाणा के लोगों के हितों को न देखते हुए अपने द्वारा की हुई गलतियों पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे हैं तथा नई पार्टी जननायक जनता पार्टी (जजपा)के बारे में ही गलत बयानबाजी करके इनैलो पार्टी को मजबूत करने के बजाय इनैलो पार्टी को कमजोर करते हुए अतीत से कोई सबक नही ले रहे हैं। धनकड़ का कहना है कि अब जिला इनैलो कार्यकर्ता सम्मेलनों में बार-बार दुष्यंत चौटाला को मुख्यमंत्री बनाने की बात कहने वाले इनैलो सुप्रीमो चौ० ओमप्रकाश चौटाला काश यही बात 7 अक्टूबर, 2018 को स्व० जननायक चौ० देवीलाल के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में आयोजित गोहाना रैली में कह देते तो आज सारे हरियाणा ही नही अपितु देश में चौ०ओमप्रकाश चौटाला तथा इनैलो पार्टी की जय-जयकार हो रही होती। साथ ही इनैलो कार्यकर्ताओं का भी राजनैतिक बनवास खत्म हो गया होता। चौटाला साहब के एक गलत निर्णय से आज इनैलो पार्टी के कार्यकर्ता के साथ-साथ हरियाणा के सभी वर्गों के लोग दु:खी व हताश हैं।
धनकड़ ने कहा कि किसी ने ठीक ही कहा है कि गुस्सा विनाश का कारण है। अजय चौटाला, दुष्यन्त चौटाला व दिग्विजय चौटाला को पार्टी से निकलने का निर्णय गलत था तथा यह निर्णय चौटाला साहब का था या किसी और का यह सिर्फ वे ही जानते हैं। इस निर्णय से इनैलो पार्टी का कार्यकर्ता ही नहीं, अपितु समस्त हरियाणावासी दु:खी हैं।
प्रेम सिंह धनकड़ ने ओमप्रकाश चौटाला से अनुरोध किया है कि वे परिवार को एक करने की कोशिश करें, अन्यथा दुष्यंत चौटाला व जजपा के बारे में टिप्पणियां बन्द कर दें। यही समय की पुकार है तथा यही लोगों की आवाज है।
बकौल प्रेम सिंह धनकड़ उन्होंने चौ० देवी लाल की किसान, कमेरा, अनुसूचित जाति व जनजाति, पिछड़ा वर्ग, कारखानों में कार्य करने वाले मजदूरों, दुकानदार, छोटे व्यापारी व गरीबों के हितों के लिए लड़ाई लडऩे वाली विचारधारा से प्रभावित होकर युवा अवस्था से ही चौ० देवीलाल के सानिध्य में कार्य करना शुरू किया था। पार्टी ने 1985 से लेकर आज तक पार्टी के हल्का स्तर से लेकर जिला स्तर पर (युवा व जनरल बॉडी) उन्हें विभिन्न पदों पर कार्य करने का मौका दिया उसके लिए वे पार्टी सुप्रीमो चौ० ओमप्रकाश चौटाला व पार्टी के सभी वरिष्ठ नेताओं का धन्यवाद करते हैं। साथ ही पार्टी के उन सभी कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों का भी धन्यवाद करते हैं जिन्होंने पार्टी को मजबूत करने के लिए उनका समय-समय पर सहयोग कर मार्गदर्शन भी किया।
प्रेम सिंह धनकड़ ने कहा है कि उन्होंने भी पूरी ईमानदारी, लग्न, जोश व मेहनत से पार्टी के विभिन्न पदों पर कार्य करते हुए सदैव पार्टी संगठन का विस्तार करने व संगठन को मजबूत बनाने की भरपूर कोशिश की तथा पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को सम्मान देकर एक साथ लेकर चलने की कोशिश की, लेकिन इंसान गलती का पुतला है। अगर पार्टी में कार्य करते हुए अनजाने में उनसे किसी भी इनैलो पार्टी के कार्यकर्ता व पदाधिकारी के साथ कोई गलत व्यवहार हुआ हो तो वे इनैलो पार्टी के सभी कनिष्ठ व वरिष्ठ साथियों से हाथ जोड़कर क्षमा चाहते हैं।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *