BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

DTP नरेश ने ग्रीन फील्ड में पीला पंजा चला की जबरदस्त तोड़फोड़!

बिल्डरों द्वारा अवैध रूप से बनाए गए फ्लैटों के बहकावे में ना आए भोली-भाली जनता: नरेश कुमार
मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट
फरीदाबाद,8 अक्टूबर:
फरीदाबाद ग्रीन फील्ड कॉलोनी में जिला प्रशासन की मदद से तोडफ़ोड़ की कार्यवाही अमल में लाई गई। जिला नगर योजनाकार नरेश कुमार ने बताया की ईन्फोर्समैन्ट एंड विजीलेंस व जिला प्रशासन के सहयोग से पुलिस बल की मौजूदगी में ग्रीनफील्ड कॉलोनी में 4 रिहायशी प्लाटों पर बनाए गए अवैध निर्माणों के विरूद्ध तोडफ़ोड़ की कार्याही की गई। इन चारों प्लाटों पर रिहायशी प्रमाण पत्र जारी होने उपरान्त अवैध निर्माण किया गया था व जिनमें से एक प्लाट पर दुकानें बनाई जा रहीं थीं, जिसको कि आज तोड़ दिया गया।
जिला नगर योजनाकार, ईन्फोर्समैन्ट ने बताया कि ग्रीनफील्ड कॉलोनी में रिहायशी प्रमाण पत्र जारी होने उपरान्त किए गए अवैध निर्माणों की लिस्ट बनाई जा चुकी है। जिन प्लाटों पर अवैध निर्माण किया गया है उन प्लाटों के रिहायशी प्रमाण पत्र रद्द करने बारे लिखा जा रहा है इसके अतिरिक्त उनके खिलाफ पुलिस विभाग में एफआईआर दर्ज करवाई जा रही हैं व तोडफ़ोड़ की भी कार्यवाही की जायेगी। यह कार्यवाही शहरी क्षेत्र अधिनियम के तहत की गई है। तोडफ़ोड़ की कार्यवाही के दौरान सुनील कुमार,चौकी इंचार्ज ग्रीनफील्ड कॉलोनी व प्रदीप राना, जे.ई. मौजूद थे।
तोडफ़ोड़ की इस कार्यवाही के दौरान जिला नगर योजनाकार, ईन्फोर्समैन्ट एंड विजीलेंस नरेश कुमार ने बताया कि ग्रीनफील्ड कॉलोनी में बिल्डरों द्वारा रिहायशी प्लाट पर रिहायशी प्रमाण पत्र जारी होने उपरान्त अवैध निर्माण करने बारे शिकायत प्राप्त हो रहीं थी, जिसमें बिल्डरों द्वारा नक्शे से अधिक निर्माण करने उपरान्त भोली-भाली जनता को बेचे जा रहे हैं। इस तरह के रिहायशी प्लाटों पर बनाए जा रहे अवैध निर्माण को किसी भी सूरत में नहीं पनपने दिया जायेगा। अत: आम जन से अनुरोध है कि बिल्डरों द्वारा अवैध रूप से बनाए गए भवनों में फ्लैटों को बिल्डरों के बहकावे में आकर ना खरीदे तथा खरीदते समय भवन का रिहायशी प्रमाण पत्र व भवन प्लान की जांच कर लेवें।
जिला नगर योजनाकार, ईन्फोर्समैन्ट द्वारा आम जन से यह भी अनुरोध किया है कि रिहायशी प्लाटों में गैर रिहायशी गतिविधियां अपने स्तर पर बंद कर लेवें अन्यथा यह कार्यालय नियमानुसार उनके विरूद्ध कार्यवाही करने को बाध्य होगा।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *