BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

संतोष अस्पताल के डॉक्टरों ने नेहरू कॉलेज में विद्यार्थियों को किया कैंसर के बारे में जागरूक।

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट।
फरीदाबाद, 4 फरवरी:
विश्व कैंसर दिवस के मौके पर स्थानीय पं. जवाहर लाल नेहरू गर्वनमेंट कॉलेज में आज संतोष अस्पताल एनएच-3 द्वारा एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में अस्पताल के विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा कैंसर से बचाव व उसके उपचार के बारे में विद्यार्थियों को रूबरू कराया गया। कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में अस्पताल के डॉ. संदीप मल्होत्रा व मुख्य वक्ता के रूप में डॉ. पीयूष मल्होत्रा उपस्थित रहे। वहीं अस्पताल में वुमैन सैल की संयोजिका डॉ. नीरकंवल मणि द्वारा छात्राओं को महिला संबंधी परेशानियों के बारे में अवगत कराया गया। गर्वनमेंट कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. एमके गुप्ता ने सभी अतिथिगणों का कालेज में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने पर आभार व्यक्त किया।
उपस्थितजनों को संबोधित करते हुए डॉ. संदीप मल्होत्रा ने बताया कि कैंसर बेहद दर्दनाक व खर्चीली बीमारी है। कैंसर एक किस्म की बीमारी नहीं होती बल्कि यह कई रूप में होता है। कैंसर के 100 से अधिक प्रकार होते हैं। कैंसर के लिए गुटखा, पान-मसाला, एल्युमिनियम के बर्तन में खाना बनाना, प्लास्टिक के बर्तन में गर्म खाना परोसना, जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण व जीवनशैली में बदलाव आदि जिम्मेदार हो सकते हैं।
उन्होंने कैंसर से बचाव की जानकारी देते हुए बताया कि कैंसर की रोकथाम के तंबाकू उत्पादों का प्रयोग न करें, कम वसा वाला भोजन करें तथा सब्जी, फलों और समूचे अनाजों का उपयोग अधिक करें तथा नियमित व्यायाम करें।
वहीं डॉ. पीयूष मल्होत्रा ने कैंसर के लक्षणों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कैंसर में स्तन या शरीर के किसी अन्य भाग में कड़ापन या गांठ होना, एक नया तिल या मौजूदा तिल में परिवर्तन, कोई खऱाश जो ठीक नहीं हो पाती, स्वर बैठना या खांसी ना हटना, आंत्र या मूत्राशय की आदतों में परिवर्तन, खाने के बाद असुविधा महसूस करना, निगलने के समय कठिनाई होना, वजन में बिना किसी कारण के वृद्वि या कमी, असामान्य रक्त स्राव या डिस्चार्ज, कमजोर लगना या बहुत थकावट महसूस करना आदि शामिल हो सकते हैं।
इस मौके पर कैंसर से बचाव का संदेश देते हुए डॉ. अरुण लेखा, डॉ. तरुण अरोड़ा, डॉ. दीपिका कालोन, डॉ. निशा तेवतिया, डॉ. मीनाक्षी भारद्वाज, डॉ. सरोज तक्षल, डॉ. प्रोमिला काजल, डॉ. प्रियंका ने भी अपने-अपने विचार रखें।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *