BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

बिल्डिंग इंस्पेक्टर और BJP पार्षद का झगड़ा सड़कों पर, भाजपा पार्षद के धरने-प्रदर्शन को हाईजैक किया कांग्रेसियों ने!

मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की खास रिपोर्ट।
फरीदाबाद, 17 अगस्त:
पार्क की दीवार तोड़कर उसमें अवैध रूप से बूथ/खोका लगाने और उसे तोडऩे को लेकर बिल्डिंग इंस्पेक्टर सुमेर सिंह और पार्षद मनोज नासवा के बीच आरोप-प्रत्यारोप के साथ हुई जबरदस्त नोकझोंक अब राजनैतिक रूप लेने लगी है। इस मामले में पंजाबी बिरादरी के नाम का जातिवाद का कार्ड खेलकर सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा के पार्षद मनोज नासवा की अगुवाई में उनके चंद समर्थकों ने निगमायुक्त के कैंप कार्यालय पर नारेबाजी कर प्रदर्शन करते हुए धरना देते हुए सुमेर सिंह के निलंबन की मांग की, वहीं निगमायुक्त डॉ. यश गर्ग ने इस मामले में तीन दिन में जांच करने के बाद उचित कार्यवाही करने का आश्ववासन देकर मामले को फिलहाल रफा-दफा कर दिया।
मजेदार बात तो यह है कि पार्षद मनोज नासवा सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा से हैं लेकिन उनके साथ ना तो इस मौके पर कोई भाजपा नेता व पदाधिकारी थे और ना ही कोई पार्षद साथी। होते भी कैसे? कैसे कोई सत्तारूढ़ पार्टी का नेता और पार्षद अपनी ही सरकार में अधिकारियों के खिलाफ धरने-प्रदर्शन को आगे आएगा जोकि विपक्षी पार्टी के नेताओं का काम होता है। मतलब निगम कार्यवाही में बाधा पहुंचाने मेंं बिल्डिंग इंस्पेक्टर और पार्षद के बीच हुई नोकझोक के बाद उनका किसी ने साथ नहीं दिया सिवाए उनके चंद समर्थकों के जिनमें ज्यादातर कांग्रेसी थे जोकि शायद वहां अपनी राजनैतिक रोटियां सेंकने आए थे। इससे लगता है कि पार्टी नेता और उनके साथी पार्षद बिल्डिंग इंस्पेक्टर सुमेर सिंह की उक्त कार्यवाही से सहमत थे जोकि उन्होंने एनएच-2 तिकोना पार्क में की थी।
अब बात करते हैं बिल्डिंग इंस्पेक्टर सुमेर सिंह के निलंबन करने की मांग की तो पार्षद मनोज नासवा का आरोप है कि सुमेर ने उन पर तथा उनके भाई पद्मभूषण जोकि नगर निगम फरीदाबाद में एसडीओ के पद पर हैं, के ऊपर सार्वजनिक रूप से शहर में ठेके लेने के आरोप लगाए जिसका वो प्रमाण दें। अन्यथा निगमायुक्त उनको सस्पेंड करें। हालांकि निगमायुक्त ने मनोज नासवा के आरोपों को गंभीरता से नहीं लिया, शायद वो सारी बातों से परिचित हैं जिसके चलते ही एसडीओ पदमभूषण से तोडफ़ोड़ का चार्ज उन्होंने वापिस लिया है।
वहीं इस सारे मामले में जो चर्चा चल रही है और भाजपा की बदनामी हो रही हैं, वह यह है कि जब जिले में नगर निगम की मेयर सुमन बाला भाजपा की है, विधायक सीमा त्रिखा भाजपा से हैं, सरकार प्रदेश व केन्द्र में भाजपा की है, फरीदाबाद में भाजपा से ही केन्द्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर है और प्रदेश में कैबिनेट में भी तीसरे दर्जे के मंत्री मूलचंद शर्मा फरीदाबाद से ही है, मुख्यमंत्री के राजनैतिक सलाहकार अजय गौड़ फरीदाबाद से हैं, पार्टी जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा भी हैं, तो ऐसे क्यों नहीं भाजपा पार्षद मनोज नासवा ने आज के धरना-प्रदर्शन से पहले उक्त राजनेताओं से इस मामले में विचार विमर्श किया और स्वयं भाजपा पार्षद होने के बावजूद निगमायुक्त के कार्यालय पर पदर्शन कर पार्टी की साख/छवि को धूमिल करने का काम किया। यहीं नहीं, उन्होंने नगर निगम में 40 में से 34 पार्षद जो भाजपा के हैं, उनसे भी इस मामले में विचार विमर्श ना कर चंद कांग्रेसियों के हाथों की कठपुतली बन सरकार में होने के बावजूद निगमायुक्त के कैंप कार्यालय पर ही नारेबाजी कर धरना-प्रदर्शन कर दिया वो भी एक जेई स्तर के अधिकारी के लिए जोकि शहर में एक मजाक बनकर रह गया और उनके हाथ भी कुछ नहीं लगा।
ध्यान रहे कि कल रविवार को एनआईटी फरीदाबाद के एनएच-2 तिकोना पार्क सब्जी मंडी में उस समय अच्छा खासा विवाद हो गया था जब सड़क पर ही सरेआम बिल्डिंग इंस्पेक्टर और स्थानीय भाजपा पार्षद में जमकर नोकझोंक हो गई। विवाद इतना बढ़ गया था कि जहां पार्षद ने बिल्डिंग इंस्पेक्टर पर शहर में अवैध निर्माण और अतिक्रमण होने के आरोप लगा दिए तो बिल्डिंग इस्पेक्टर ने पार्षद पर पलटवार करते हुए पार्षद और उनके भाई जोकि नगर निगम में एसडीओ है, पर ही शहर में अवैध निर्माण करवाने के ठेके लेने के आरोप जबरदस्त तरीके से जड़ दिए। परिणामस्वरूप पार्षद को वहां से मजबूरन उल्टे पैर वापिस जाना पड़ा। बता दें कि पार्षद मनोज नासवा के भाई पद्मभूषण नगर निगम फरीदाबाद में एसडीओ के पद पर हैं जिनसे तोडफ़ोड़ का चार्ज निगमायुक्त ने वापिस ले लिया है। ये दोनों ही भाई स्थानीय विधायक सीमा त्रिखा के विरोधी खेमे के बताए जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ इस मामले में हरिकिशन वर्मा नामक व्यक्ति पर भी रिवाल्वर निकालकर लाने के आरोप भी मौके पर लगे थे।
कुल मिलाकर इस सारे मामले में सत्तारूढ़ भाजपा पार्टी की जो छिछालेदारी/बदनामी हुई वो किसी से छिपी नहीं हैं।
इस धरने-प्रदर्शन के अवसर पर यशपाल गुगनानी, संदीप चावला, पार्षद पति कविन्द्र भागना, पार्षद जेठ सतीश भागना, भाजपा नेत्री अंजू गुलाटी, मन्नू सिंह, राम जुनेजा, हरिकिशन वर्मा, टापू आदि जैसे लोग विशेष तौर पर मनोज नासवा के साथ मौजूद थे।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *