BREAKING NEWS -
Rtn. Naveen Gupta: +91-9811165707 Email: metroplus707@gmail.com

साइबर अपराधियों से रहे सावधान: केवाईसी कराने का झांसा दे सॉफ्ट टारगेट को बनाते है शिकार।

फरीदाबाद पुलिस ने साइबर फ्रॉड से बचने, सतर्क रहने और जागरूक करने के लिए जारी की एडवाइजरी।
मैट्रो प्लस से नवीन गुप्ता की रिपोर्ट
फरीदाबाद, 12 दिसम्बर:
कोरोना वायरस पूरी दुनिया में फैला हुआ है। कोरोना के चलते डिजिटल ट्रांजैक्शन की मांग बढ़ी है जिसके कारण ऑनलाईन ठगी के मामलों भी बढ़े हैं। फरीदाबाद पुलिस ने भी साइबर अपराधियों से सावधान रहने के लिए एडवाईजरी जारी की है जिसमें बताया गया है कि आजकल कुछ नकली मैसेज साइबर अपराधियों के द्वारा चलाए जा रहे है। कोरोना महामारी के दौरान विभिन्न वित्तीय स्कीम के नाम पर साइबर फ्रॉॅड में बढ़ेोतरी हुई है। केवाईसी कराने को लेकर मैसेज जारी किए जा रहे है, मैसेज में 24 घंटे का वक्त दिया जाता है और लिखा होता है कि अगर 24 घंटे में केवाईसी नही कराई तो आपका अकांउट बंद कर दिया जाएगा। साइबर अपराधी मैसेज में केवाईसी कराने के लिए अपने किसी साथी का मोबाईल फोन नंबर भी देते है ताकि सॉफ्ट टारगेट को चुन शिकार बनाकर उन्हें ठगा जा सके।
मैसेज में दिए गए नंबरों पर जब उपभोक्ता उन नंबरों पर फोन करता है तो साइबर ठग उनको केवाईसी कराने का झांसा देकर उपभोक्ता को Anydesk, Quick support and Team Viewer एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए कहते है। जैसे ही उपभोगता अपने मोबाईल फोन में उपरोक्त एप्लीकेशन डाउनलोड करते है तो साइबर अपराधी मोबाइल फोन को अपने मोबाईल से आपरेट कर पैसे निकाल लेते है।
आपको बता दें कि Anydesk, Quick support and Team Viewer एप्लीकेशन डाउनलोड करने के बाद इसके जरिये दूर बैठा व्यक्ति किसी अन्य का मोबाईल फोन को आपरेट कर सकता है।

ध्यान देने योग्य बातें:-

  • इस तरह के साइबर अपराधी मैसेज भेजने के लिए मोबाईल फोन का इस्तेमाल करते है। जबकि कंपनी का अपना सिस्टम होता है। पेमेंट गेट-वे कंपनी मैसेज भेजने के लिए मोबाइल का इस्तेमाल नही करती है।
  • भेजे गए मैसेज में भी साइबर अपराधी मोबाइल नंबर देते है जबकि कंपनी ऑफिस के लिए लैंडलाईन नंबर का इस्तेमाल करती है और कंपनी मैसेज में मोबाइल नंबर का जिक्र नही करती है।
  • साइबर अपराधी के द्वारा किए गए मैसेज में अंग्रेजी व्याकरण की काफी खामियां/गलतियां होती है जैसे कि बिना वजह कैपीटल लेटर का इस्तेमाल करना और बेतरतीब तरीके से फुल स्टॉप, कोमा लगाना इत्यादि।

एडवाइजरी:-
जब भी आप केवाईसी से संबंधित मैसेज प्राप्त करते है कि आपका अकांउट 24 घंटे के अंदर बंद कर दिया जाएगा तो घबराएं नहीं। इस तरह के किसी भी मैसेज और कॉल का जवाब ना दें और इनके साथ अपने किसी भी गोपनीय चीजों को सांझा ना करें।
अगर किन्ही कारणों से आपका अकांउट पेमेंट गेट-वे कंपनी जैसे कि पेटीएम, फोन-पे, पेजएप्प, गूगल-पे इत्यादि द्वारा बंद कर दिया जाता है तो कंपनी के कस्टमर सर्विस नंबर पर ही कॉल कर इसकी जानकारी लें।
डीसीपी हेडक्वार्टर डॉ. अर्पित जैन ने बताया कि साइबर अपराधियों से सावधान रहें, इनके चंगुल/झांसे में ना आए। कहीं भी पैसा भेजने से पहले वेरीफाई करें। साइबर ठग आपकी मेहनत की कमाई को हड़पने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। बैंक अकाउंट से संबंधित जानकारी लेने के लिए या तो उनके टोल फ्री नंबर पर फोन करें या फिर बैंक विजट करें।
अगर आपके साथ पेमेंट गेट-वे जैसे कि पेटीएम, फोन-पे, पेजएप्प, गूगल-पे इत्यादि के जरिये धोखाधड़ी हो जाती है तो पहले इसकी शिकायत तुरंत संबंधित गेट-वे पेमेंट सिस्टम को करें।
साइबर क्राईम से संबंधित सहायता के लिए साइबर थाना फरीदाबाद के मोबाईल नं- 9582200087 पर संपर्क करें या साइबर क्राईम यूनिट, हरियाणा की हेल्पलाईन नंबर 155260, 7814641313 या Web Portal https://cybercrime.gov.in/ पर संपर्क करें।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *